Alzheimer’s disease in hindi – अल्जाइमर रोग क्या होता है – लक्षण, कारण और उपचार

अल्जाइमर रोग एक प्रगतिशील न्यूरोलॉजिक बीमारी है जिसके कारण मस्तिष्क सिकुड़ जाता है और मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं। इस बीमारी की वजह से सोच-विचार और व्यवहार में लगातार गिरावट होती रहती है जिसके कारण व्यक्ति स्वतंत्र रूप से कार्य नहीं कर पाता है।

बीमारी के शुरुआती स्टेज में हाल की घटनाओं या बातचीत को भूलना शामिल है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, अल्जाइमर रोग वाला व्यक्ति रोजमर्रा के कार्यों को पूरा करने की क्षमता भी खोने लगता है।

यह स्थिति आमतौर पर 65 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों को प्रभावित करती है, केवल 10% मामलों में इससे कम उम्र के लोगों में होती है।

दवाइयों की मदद से अस्थायी रूप से सुधार या लक्षणों की गति धीमी हो सकती है। ये उपचार कभी-कभी अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों को अधिकतम कार्य करने और एक समय के लिए स्वतंत्रता बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे अल्जाइमर रोग क्या होता है कैसे होता है, इसके लक्षण, कारण और उपचार के संभावित विकल्प के बारे में ।

अल्जाइमर रोग क्या है ? – what is Alzheimer’s disease in Hindi

अल्जाइमर रोग एक ऐसी स्थिति है जो मस्तिष्क को प्रभावित करती है। पहले इसके लक्षण हल्के होते हैं और समय के साथ और अधिक गंभीर हो जाते हैं। यह डॉ एलोइस अल्जाइमर के नाम पर है, जिन्होंने पहली बार 1906 में इस स्थिति का वर्णन किया था।

अल्जाइमर रोग के सामान्य लक्षणों में याददाश्त में कमी, भाषा की समस्याएं और व्यवहार में बदलाव शामिल हैं। जैसे-जैसे लक्षण बिगड़ते हैं, लोगों के लिए हाल की घटनाओं को याद करना, तर्क लगाना और उन लोगों को पहचानना कठिन हो जाता है जिन्हें वे जानते हैं।

अल्जाइमर रोग के लक्षण – symptoms of Alzheimer’s disease in hindi

याददाश्त में कमी अल्जाइमर रोग का प्रमुख लक्षण है। शुरुआती संकेतों में हाल की घटनाओं या वार्तालापों को याद रखने में कठिनाई शामिल है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, याददाश्त और भी ज्यादा बिगड़ती है और अन्य लक्षण भी विकसित होते हैं।

सबसे पहले, अल्जाइमर रोग वाले व्यक्ति को चीजों को याद रखने और विचारों को व्यवस्थित करने में कठिनाई होने का अनुभव होता है। एक परिवार के सदस्य या दोस्त को यह नोटिस करने की अधिक संभावना हो सकती है ।

यह लक्षण अल्जाइमर रोग से ग्रसित व्यक्ति को होते हैं –

याददाश्त में कमी – किसी व्यक्ति को नई जानकारी लेने और जानकारी को याद रखने में कठिनाई हो सकती है। जैसे कि:

  • सवाल या बातचीत दोहराना
  • वस्तुओं को खोना
  • घटनाओं या नियुक्तियों के बारे में भूल जाना
  • भटकना या खो जाना

सोचने और तर्क लगाने में कठिनाई – एक व्यक्ति तर्क लगाने और निर्णय लेने के साथ कठिनाई का अनुभव हो सकता है। जैसेे कि:

  • सुरक्षा और जोखिमों की कम समझ
  • पैसे या बिलों का भुगतान करने में कठिनाई
  • निर्णय लेने में कठिनाई
  • कार्यों को पूरा करने में कठिनाई जिसके कई चरण होते हैं, जैसे की कपड़े पहनना

व्यक्तित्व और व्यवहार में परिवर्तन – एक व्यक्ति को व्यक्तित्व और व्यवहार में परिवर्तन का अनुभव हो सकता है जिसमें शामिल हैं:

  • पहले की तुलना में अधिक बार परेशान, क्रोधित या चिंतित होना
  • चीजों में रुचि की कमी
  • सामाजिक रूप से अनुचित व्यवहार

बोलने, पढ़ने और लिखने में समस्या – व्यक्ति को सामान्य से शब्द को भी याद करनेे में परेशानियोंं का सामना करना पड़ता है और वह बोलचाल में और लिखने में बहुत सारी गलतियां भी करतेे हैं ।

लक्षण बिगड़ने पर भी कई महत्वपूर्ण चीजें लंबे समय तक संरक्षित रहते हैं, वो है किताबों को पढ़ना या सुनना, कहानियां बताना और याद रखना, गाना, संगीत सुनना, नृत्य करना, ड्राइंग करना ।

यह कौशल लंबे समय तक संरक्षित रहते है क्योंकि वे रोग के दौरान बाद में प्रभावित होने वाले मस्तिष्क के हिस्सों द्वारा नियंत्रित होते हैं।

अल्जाइमर रोग के चरण – Stages of Alzheimer’s disease in hindi

अल्जाइमर रोग हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकता है।

हल्का अल्जाइमर रोग – mild stage

  • दैनिक कार्य करने के लिए सामान्य से अधिक समय लेना
  • पैसे को संभालने या बिलों का भुगतान करने में कठिनाई
  • भटक जाना या खो जाना
  • व्यक्तित्व और व्यवहार में बदलाव का अनुभव करना, जैसे कि परेशान होना या अधिक आसानी से क्रोधित होना।

मध्यम अल्जाइमर रोग – Moderate

  • अधिक याददाश्त में कमी
  • दोस्तों या परिवार को पहचानने में कठिनाई
  • नई चीजें सीखने में असमर्थता
  • कई चरणों के साथ कार्य करने में कठिनाई,
  • नई स्थितियों का सामना करने में कठिनाई
  • खराब व्यवहार
  • मतिभ्रम

गंभीर अल्जाइमर रोग – Severe

  • बातचीत न कर पाना
  • देखभाल के लिए दूसरों पर निर्भरता
  • ज्यादातर समय या सभी समय बिस्तर छोड़ने में असमर्थ होना

अल्जाइमर रोग का कारण – Causes of Alzheimer’s disease in hindi

अल्जाइमर रोग के सटीक कारणों को पूरी तरह से समझा नहीं गया है। लेकिन एक बुनियादी स्तर पर पता चला है कि, मस्तिष्क का प्रोटीन सामान्य रूप से कार्य करने में विफल रहता है, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं (न्यूरॉन्स) के काम को बाधित करता है। धीरे धीरे न्यूरॉन्स क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और एक दूसरे से कनेक्शन खो देते हैं और अंततः मर जाते हैं।

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि ज्यादातर लोगों के लिए, अल्जाइमर रोग आनुवंशिक, जीवन शैली और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन से होता है जो समय के साथ मस्तिष्क को प्रभावित करते हैं।

सबसे पहले क्षति मस्तिष्क के उस क्षेत्र में शुरू होती है जो ‘याद’ को नियंत्रित करती है। लेकिन यह प्रक्रिया अल्जाइमर के लक्षणों के दिखाई पड़ने के कई साल पहले से ही शुरू हो जाती है। रोग के अंतिम चरण तक, मस्तिष्क काफी सिकुड़ गया होता है।

अल्जाइमर रोग का उपचार – Treatment of Alzheimer’s disease in hindi

अल्जाइमर रोग का कोई ज्ञात इलाज नहीं है। मस्तिष्क के कोशिकाओं की मृत्यु को रोकना संभव नहीं है। उपचार, हालांकि, इसके लक्षणों को दूर कर सकते हैैं। व्यक्ति, उनके परिवार और देखभाल करने वालों के लिए जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं।

अल्जाइमर रोग के लिए कोई रोग-निरोधक दवाएं उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन कुछ विकल्प लक्षणों को कम कर सकते हैं और जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

अल्जाइमर रोग के जोखिम – Risk factors of Alzheimer disease in Hindi

आयु – जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती हैै वैसे वैसे अल्जाइमर रोग बढ़ने की संभावना बढ़ती जाती है।

पारिवारिक इतिहास – अल्जाइमर रोग का खतरा बढ़ जाता है जब आपके किसी करीबी रिश्तेदार को भी यह बीमारी हो ।

लिंग – पुरुषों और महिलाओं के बीच जोखिम में थोड़ा अंतर प्रतीत होता है, लेकिन, कुल मिलाकर, बीमारी के साथ अधिक महिलाएं हैं, क्योंकि वे आम तौर पर पुरुषों की तुलना में अधिक समय तक जीती हैं।

सिर में चोट – किसी के सर पर गंभीर चोट लगनेेे पर वह अल्जाइमर रोग का शिकार हो सकता है ।

  • अत्यधिक शराब का सेवन
  • दिल की बीमारी
  • नींद पूरी ना लेना
  • खराब दिनचर्या

अल्जाइमर का रोकथाम

  • नियमित व्यायाम करें ।
  • एक अच्छे आहार का पालन करें।
  • एक स्वस्थ हृदय प्रणाली बनाए रखें।
  • हृदय रोग, मधुमेह, मोटापा और उच्च रक्तचाप के जोखिमों का प्रबंधन करें।
  • मस्तिष्क को जीवन भर सक्रिय रखें।

Spread the knowledge

One thought on “Alzheimer’s disease in hindi – अल्जाइमर रोग क्या होता है – लक्षण, कारण और उपचार

  • January 29, 2021 at 5:29 pm
    Permalink

    Helpful information.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *