Appendix ke lakshan in hindi – अपेंडिक्स के लक्षण

नमस्कार दोस्तों आपका फिर से एक बार स्वागत है PHYSIOGUIDE में । आज हम जानेंगे अपेंडिक्स के लक्षण, अपेंडिक्स के कारण, अपेंडिक्स क्या होता है और अपेंडिक्स के इलाज के बारे में । Appendix kya hota hai, appendix ke lakshan, appendix ke karan, appendix ka ilaaj .

अपेंडिक्स क्या है – appendix kya hai

अपेंडिक्स पेट के दाएं ओर (right side) के निचले हिस्से में पाया जाता है, यह पतला और छोटा pouch होता है जो की बड़ी आंत से जुड़ा हुआ होता है । अपेंडिक्स हमारे शरीर का ही एक हिस्सा है पर यह एक vestigial organ है अर्थात अपेंडिक्स हमारे शरीर का वह अंग है जिसका हमारे शरीर में कोई खास काम नहीं है हम अपेंडिक्स के बिना भी अपनी जिंदगी बिता सकते हैं बिना किसी परेशानी के ।

जब पेट के दाएं और निचली ओर अपेंडिक्स के पाउच में सूजन या इंफेक्शन हो जाए तेज दर्द के साथ उसे ही हम appendix या appendicitis कहते हैं ।

अपेंडिक्स के लक्षण, अपेंडिक्स के कारण, अपेंडिक्स क्या होता है और अपेंडिक्स के इलाज अपेंडिक्स के लक्षण - Appendix ke lakshan in hindi
अपेंडिक्स के लक्षण, अपेंडिक्स के कारण, अपेंडिक्स क्या होता है और अपेंडिक्स के इलाज अपेंडिक्स के लक्षण – Appendix ke lakshan in hindi

अगर आप अपेंडिक्स का इलाज समय में नहीं करवाते हैं तो वह बड़ा होकर फट जाएगा और उसके अंदर मौजूद सारा इंफेक्शन और बैक्टीरिया आपके पेट में फैल जाएगा जो कि एक बहुत ही खतरनाक स्थिति है ।

अपेंडिक्स के लक्षण – appendix ke lakshan

चलिए बात कर लेते अपेंडिक्स के लक्षण ( Appendix ke lakshan )के बारे में, कौन-कौन से लक्षण हैं जो आप देखेंगे अपेंडिक्स होने पर ।

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • हल्का बुखार
  • जी मिचलाना
  • पेट में सूजन होना
  • पेशाब करते समय दर्द
  • खांसने या छींक आने पर दर्द
  • उल्टी आना
  • भूख ना लगना
  • गैस बनना
  • दस्त होना
  • पेट के अलग-अलग जगहों में दर्द होना
  • अचानक तेज दर्द

यह कुछ अपेंडिक्स के लक्षण (Appendix ke lakshan) है जिसका सामना अपेंडिक्स होने पर लोग करते हैं यह जरूरी नहीं है कि हर किसी को एक समान लक्षण दिखे ।

अगर आपको भी इनमें से कोई Appendix ke lakshan दिख रहे हैं तो कृपया करके जल्द से जल्द में डॉक्टर के पास जाकर अपनी समस्या का इलाज कराएं बिना देरी किए।

पेट के निचले हिस्से में दर्द – Appendix ke lakshan

पेट के दाएं और निचले हिस्से में अचानक बहुत तेज दर्द होना शुरू हो जाता है और यह दर्द बढ़ता ही जाता है । दर्द कम करने के लिए आप कोई भी दर्द निरोधक दवा ले सकते हैं जिससे कि आपको कुछ देर के लिए आराम मिल सकता है ।

अगर दर्द बढ़ता ही चला जा रहा है तो जल्दी डॉक्टर से संपर्क करें और इलाज कराएं ।

पेट के निचले हिस्से में सूजन – Appendix ke lakshan

अपेंडिक्स के अंदर इनफेक्शन हो जाने के कारण उसमें सूजन आ जाती है जो पेट में भी सूजन का कारण बनती है । सूजन के साथ-साथ पेट का निचला हिस्सा लाल हो जाता है दर्द के साथ ।

चलने पर पेट में दर्द – Appendix ke lakshan

चलने फिरने या फिर किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि करने पर अगर पेट के निचले हिस्से में दर्द है तो यह अपेंडिक्स भी हो सकता है ।

हल्का बुखार होना – Appendix ke lakshan

हल्का बुखार होना भी अपेंडिक्स का एक कारण हो सकता है यह बुखार 99° F – 101°F के बीच रहता है, पर जब पेट के अंदर अपेंडिक्स फट जाए तो उसकी वजह से तेज बुखार हो सकता है जो कि 101° F के ऊपर जा सकता है साथ ही दिल की धड़कन भी तेज हो जाती है । ऐसी स्थिति में आप जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाएं ।

पेट खराब रहना – Appendix ke lakshan

अपेंडिक्स की वजह से पेट खराब रहता है और भूख नहीं लगती है साथ ही जी मिचलाना, उल्टी, दस्त जैसे लक्षण देखे जाते हैं ।

बच्चों में अपेंडिक्स के लक्षण

अगर आपको अपने बच्चे में अपेंडिक्स के थोड़ी भी लक्षण नजर आते हैं तो आप जल्द उन्हें डॉक्टर के पास लेकर जाएं क्योंकि बच्चे अपने दर्द को ठीक से बयां नहीं कर पाते ।

ज्यादातर लोग अपने बच्चों के पेट दर्द को साधारण पेट दर्द या फिर खाने पीने में दिक्कत होने की वजह से पेट खराब की तकलीफ समझ कर डाल देते हैं कृपया पेट दर्द को हल्के में ना लें क्योंकि अगर अपेंडिक्स पेट में पड़ जाए तो इससे जान भी हो सकती है ।

बच्चों में अपेंडिक्स के लक्षण कुछ इस प्रकार होते हैं –

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • पेट में सूजन
  • उल्टी होना
  • बुखार आना
  • जी मिचलाना

अपेंडिक्स के कारण

वैसे तो के बहुत सारे कारण हो सकते हैं उनमें से कुछ कारण है –

  • अपेंडिक्स में इन्फेक्शन
  • अपेंडिक्स का ब्लॉक हो जाना
  • अपेंडिक्स में भोजन चला जाना
  • कैंसर
  • गांठ हो जाना
  • अंदरूनी चोट
  • ट्यूमर

अपेंडिक्स का इलाज – appendix ka ilaj

जब बात करें अपेंडिक्स का इलाज ( appendix ka ilaj ) के बारे में तो अपेंडिक्स के इलाज के लिए कभी भी घरेलू उपाय के ऊपर निर्भर ना रहें । थोड़ी भी लापरवाही बहुत भयंकर नतीजा दे सकती है इसलिए इलाज के लिए हमेशा डॉक्टर के पास जाएं खुद डॉक्टर ना बने ।

appendix ka ilaj – अपेंडिक्स का इलाज कराने के लिए जब आप अपने डॉक्टर के पास जाएंगे तब डॉक्टर आपसे मेडिकल हिस्ट्री एवं अपेंडिक्स के लक्षण पूछेंगे और उसके हिसाब से वह डिसाइड करेंगे की सर्जरी जरूरी है या नहीं । कुछ मामलों में अपेंडिक्स को एंटीबायोटिक्स और अन्य दवाइयां भी ठीक किया जाता है ।

appendix ka ilaj – डॉक्टर आपसे ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट और सीटी स्कैन कराने को कहेंगे जिससे कि वह पता लगा के कि अपेंडिक्स की क्या स्थिति है आपके शरीर में ।

अपेंडिक्स सर्जरी – Appendix surgery

अपेंडिक्स इस सर्जरी को को appendectomy कहा जाता है ।

अपेंडिक्स की सर्जरी दो प्रकार की होती है appendectomy और laparoscopic appendectomy अपेंडिक्स की स्थिति देखकर यह सर्जरी अपनाई जाती है

Appendectomy in hindi

अपेंडेक्टोमी सर्जरी में सर्जन आपके पेट के निचले दाएं ओर चीरा लगाता है और अपेंडिक्स को निकालता है । अपेंडिक्स निकालने के बाद फिर उस जगह की अच्छे से साफ करके सिलाई की जाती है ।

laparoscopic appendectomy in hindi

लेप्रोस्कोपिक अपेंडेक्टोमी सर्जरी मे सर्जन आपके पेट के दाएं निचले ओर एक छोटा चीरा लगाता है फिर उसमें laparoscope डाला जाता है । laparoscope एक छोटा मशीन है जिसमें कैमरा लगा हुआ होता है जिससे कि पेट के अंदर की तस्वीरें बाहर डॉक्टर देख सकते हैं । अब उस कैमरे की मदद से अपेंडिक्स ढूंढा जाता है और फिर सर्जरी मैं लगने वाले सामान की मदद से अपेंडिक्स को निकाला जाता है ।

अपेंडिक्स का निवारण या रोक-थाम

अपेंडिक्स की परेशानी अक्सर 15 से 30 साल की उम्र के बीच होती है । अपेंडिक्स होने का खतरा पुरुषों में ज्यादा होता है महिलाओं के मुकाबले ।

अपेंडिक्स किसी भी उम्र में हो सकता है और इसका कोई रोकथाम नहीं है लेकिन कुछ बातें हैं जिसका अगर हम ख्याल रखें तो हमें अपेंडिक्स होने का खतरा बहुत ही कम होता है ।

भोजन – हमेशा भोजन में फाइबर की अच्छी मात्रा ले, भोजन में फाइबर की अच्छी मात्रा होने से भोजन अच्छी तरह पचता है और हमें अपेंडिक्सस जैसी बीमारी होने का खतरा कम रहता है और साथ दूसरी बीमारियोंं से भी दूर रखता है।

यह थी अपेंडिक्स से जुड़ी कुछ जानकारियां आशा है आपको पसंद आई होगी । अपने दोस्तों और परिवार के साथ इसे शेयर करें, धन्यवाद ।

आगे पढ़ें

खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए – khana khane ke bad kya karna chahie

सुबह exercise करने के फायदे in hindi – Benefits of exercise

Spread the knowledge