Arthritis in hindi – अर्थराइटिस के कारण, लक्षण और उपचार

अर्थराइटिस या गठिया जोड़ों की सूजन है, यह एक या एक से अधिक जोड़ों को प्रभावित कर सकती है। अर्थराइटिस के मुख्य लक्षण जोड़ों में दर्द और कठोरता हैं, जो आम तौर पर उम्र के साथ बढ़ते ही जाते हैं। अर्थराइटिस का सबसे आम प्रकार ऑस्टियो आर्थराइटिस और रुमेटीइड अर्थराइटिस हैं।

ऑस्टियो आर्थराइटिस – जहां दो हड्डियां एक साथ मिलती है, उन हड्डियों के सिरे पर कार्टिलेज नामक सुरक्षात्मक ऊतक से ढंके होते हैं। जिन लोगों में ओस्टियोआर्थराइटिस पाई जाती है उनमें यह कार्टिलेज टूट जाती है, जिससे जॉइंट्स के भीतर की हड्डियों को एक साथ रगड़ना पड़ता है। यह दर्द, कठोरता और अन्य लक्षण पैदा कर सकता है।

रुमेटीइड अर्थराइटिस – एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जब किसी को रुमेटीइड अर्थराइटिस हो, तो उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से जोड़ों के साथ-साथ अन्य अंगों और ऊतकों पर हमला करती है।

अर्थराइटिस के लक्षण – Symptoms Of Arthritis In Hindi

गठिया या अर्थराइटिस के सबसे आम लक्षण हैं

  • दर्द
  • अकड़न
  • सूजन
  • लालपन
  • चलने फिरने की गति में कमी

अर्थराइटिस के कारण – Causes Of Arthritis In Hindi

अर्थराइटिस का कोई एक कारण नहीं होता, अर्थराइटिस के प्रकार और रूप के अनुसार कारण भी भिन्न होते हैं। कुछ आम कारण अर्थराइटिस के हो सकते हैं। वह हैं :

  • किसी प्रकार की चोट
  • असामान्य मेटाबॉलिज्म
  • इंफेक्शन
  • प्रतिरक्षा प्रणाली की शिथिलता
  • अनुवांशिक

अधिकांश प्रकार के अर्थराइटिस या गठिया बहुत से कारणों के एक साथ मिलने के वजह से होते हैं, लेकिन कुछ का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है ।

गाउट एक प्रकार का गठिया है जो आहार से जुड़ा हुआ है, क्योंकि यह यूरिक एसिड के उच्च स्तर के कारण होता है जो आहार में अधिक प्यूरीन का परिणाम हो सकता है।

कमर दर्द के लिए एक्सरसाइज – kamar dard ke liye exercise in hindi

अर्थराइटिस के जोखिम कारक – Risk factors for arthritis in hindi

कुछ जोखिम कारक अर्थराइटिस से जुड़े हुए हैं। इनमें से कुछ परिवर्तनशील हैं जबकि अन्य परिवर्तनशील नहीं हैं।

आनुवांशिक : कुुुुछ लोगों में यह बीमारी अनुवांशिक होती हैै।

सेक्स: ज्यादातर अर्थराइटिस महिलाओं में अधिक आम हैं, और अर्थराइटिस सेेे पीड़ितत सभी लोगों में 60 प्रतिशत महिलाएं हैं जबकि महिलाओं की तुलना में पुरुषों में गाउट अधिक आम है।

आयु: अधिकांश प्रकार के अर्थराइटिस के विकास का जोखिम उम्र के साथ बढ़ता है।

जॉइंट में चोटें: जॉइंट की चोट ऑस्टियोआर्थराइटिस के विकास में योगदान कर सकता है।

काम की वजह से अर्थराइटिस – अगर आपके काम में आपको अधिक देर तक घुटने मोड़कर बैठना पड़ता है तब यह अर्थराइटिस की समस्या को बढ़ा सकता है ।

इंफेक्शन – इंफेक्शन की वजह से कई तरह के अर्थराइटिस हो सकते हैं ।

अर्थराइटिस का उपचार – Treatment Of Arthritis In Hindi

अर्थराइटिस के उपचार का मुख्य लक्ष्य दर्द को कम करना, जॉइंट के डैमेज को ठीक करना और जीवन की गुणवत्ता को सुधारना है। कुछ प्रकार की दवाएं के इस्तेमाल और जीवन शैली में सुधार करने से अर्थराइटिस की समस्या से बचा सकता है।

अर्थराइटिस का इलाज अक्सर दर्द कम करने वाली दवाइयों और शारीरिक गतिविधियों के साथ किया जाता है साथ ही वजन घटाने पर भी ध्यान दिया जाता है ।

अर्थराइटिस का इलाज :

  • फिजिकल थेरेपी या फिजियोथैरेपी
  • ऑक्यूपेशनल थेरेपी
  • वजन कम करना
  • सर्जरी

अर्थराइटिस प्राकृतिक उपचार – Natural Remedies For Arthritis In Hindi

उचित व्यायाम के साथ एक स्वस्थ, संतुलित आहार, धूम्रपान से परहेज, और अधिक शराब नहीं पीने से अर्थराइटिस से पीड़ित लोगों को अपने समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

कोई विशिष्ट आहार नहीं है जो अर्थराइटिस का इलाज करता है, लेकिन कुछ प्रकार के भोजन सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। जैसे कि:

  • मछली
  • दाने और बीज
  • फल और सब्जियां
  • फलियां
  • जतुन तेल
  • साबुत अनाज

अर्थराइटिस के लिए फिजियोथेरेपी – Physiotherapy For Arthritis In Hindi

डॉक्टर अक्सर गठिया के रोगियों को कुछ चुनौतियों से उबरने और गतिशीलता पर सीमाओं को कम करने में मदद करने के लिए भौतिक चिकित्सा या फिजियोथैरेपी के एक कोर्स की सिफारिश करेंगे। भौतिक चिकित्सा के जिन रूपों की सिफारिश की जा सकती है उनमें शामिल हैं:

गर्म पानी की थेरेपी: गर्म पानी वाले पूल में व्यायाम। पानी वजन का समर्थन करता है और मांसपेशियों और जोड़ों पर कम दबाव डालता है।

भौतिक चिकित्सा: स्थिति और व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अनुरूप विशिष्ट व्यायाम, कभी-कभी दर्द से राहत देने वाले उपचार जैसे कि बर्फ या गर्म पैक और मालिश के साथ।

व्यावसायिक चिकित्सा: रोजमर्रा के कार्यों के प्रबंधन, विशेष सहायता और उपकरण चुनने, जोड़ों को और अधिक नुकसान से बचाने और थकान के प्रबंधन पर व्यावहारिक सलाह।

Top 20 Hindi Health Blogs & Websites To Follow in 2021

Spread the knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *