Gout diet chart in hindi – गाउट बीमारी में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं

गाउट गठिया का एक प्रकार है, गाउट से पीड़ित व्यक्ति अचानक गंभीर दर्द और जोड़ों की सूजन का अनुभव करता हैं । गाउट को दवाओं, गाउट-अनुकूल आहार और जीवन शैली में परिवर्तन के साथ नियंत्रित किया जा सकता है । यह लेख गाउट के लिए सबसे अच्छा आहार Gout diet chart in hindi और गाउट बीमारी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए उसके बारे में है ।

गाउट क्या है

गाउट गठिया का एक प्रकार है जिसमें अचानक दर्द और जोड़ों की सूजन शामिल है। गाउट के लगभग आधे मामले अंगूठे को प्रभावित करते हैं, जबकि अन्य मामले उंगलियों, कलाई, घुटनों और एड़ी को प्रभावित करते हैं ।

गाउट के लक्षण तब दिखते हैं, जब रक्त में बहुत अधिक यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है । यूरिक एसिड शरीर द्वारा बनाया गया एक बेकार उत्पाद है जो खाने को पचाने के बाद बनता है ।

जब यूरिक एसिड की मात्रा शरीर में अधिक बढ़ जाती है तब यूरिक एसिड क्रिस्टलस का रूप लेकर आपके जोड़ों में जमा होते हैं । जब यूरिक एसिड क्रिस्टल्स जोड़ों में जमा होते हैं तब तीव्र दर्द और सूजन देखने को मिलता है ।

गाउट की परेशानी आम तौर पर अचानक रात को होती है और 3-10 दिनों तक बनी रहती है ।

ज्यादातर गाउट के मरीज अपने शरीर से अधिक यूरिक एसिड निकालने में असमर्थ रहते हैं जिसकी वजह से यूरिक एसिड क्रिस्टलाइज होकर उनके जोड़ों में जम जाती है ।

What is gout in hindi – गाउट के कारण, लक्षण और उपचार हिंदी में

भोजन गाउट की बीमारी को कैसे प्रभावित करता है ?

अगर आपको गाउट की परेशानी है तो फिर कुछ खाद पदार्थ ऐसे होते हैं, जिसको खाने के बाद वह गाउट की परेशानी को और भी बढ़ा सकते हैं, आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को बढ़ाकर ।

जिस खाने में अधिक मात्रा में purine प्यूरीन पाया जाता है, वह गाउट की समस्या को अधिक बढ़ाते हैं क्योंकि शरीर प्यूरीन को पचाने के बाद अधिक मात्रा में यूरिक एसिड निकालता है ।

अध्ययन से पता चलता है कि अधिक प्यूरीन वाले भोजन को ना खाने से और दवा लेने से गाउट की परेशानी को रोका जा सकता है ।

आमतौर पर गाउट को बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों में (organic meat) मांस, लाल मीट, समुद्री भोजन, शराब और बीयर शामिल हैं। इन सभी में मध्यम से उच्च मात्रा में प्यूरीन होता है

दूसरी ओर, शोध से पता चलता है कि कम वसा वाले डेयरी उत्पाद, सोया उत्पाद और विटामिन सी सप्लीमेंट रक्त में शर्करा के स्तर को कम करके गाउट के हमलों को रोकने में मदद कर सकते हैं।

गाउट बीमारी में क्या नहीं खाना चाहिए ?

खाद्य पदार्थ जिनमें प्रति 100 ग्राम में 200 मिलीग्राम से अधिक प्यूरीन होते हैं ऐसे खाद्य पदार्थों को नहीं खाना चाहिए । आपको उच्च-फ्रुक्टोज खाद्य पदार्थों से भी बचना चाहिए ।

यहाँ कुछ प्रमुख उच्च-प्यूरीन खाद्य पदार्थ और उच्च-फ्रुक्टोज खाद्य पदार्थ हैं जिनसे बचना चाहिए और नहीं खाना चाहिए ।

  • मछली – हेरिंग, ट्राउट, मैकेरल, टूना, सार्डिन, एन्कोविज़, हैडॉक इत्यादि
  • सभी ऑर्गेनिक मांस (organic meat)
  • समुद्री भोजन
  • मीठे पेय पदार्थ – विशेष रूप से फलों का रस और मीठा सोडा
  • शक्कर, शहद और उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप
  • खमीर

इसके अतिरिक्त, सफेद ब्रेड, केक और कुकीज़ जैसे कार्ब्स से बचना चाहिए। हालांकि वे प्यूरीन या फ्रुक्टोज में उच्च नहीं हैं, पर वे पोषक तत्वों में कम हैं और आपके यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ा सकते हैं ।

गाउट बीमारी में क्या खाना चाहिए ?

ऐसे खाद्य पदार्थ को कम प्यूरीन युक्त माना जाता है जिनके प्रति 100 ग्राम में 100 मिलीग्राम से कम प्यूरीन होता है। यहां कुछ कम प्यूरिन युक्त खाद्य पदार्थ हैं जो आमतौर पर गाउट वाले लोगों के लिए सुरक्षित हैं ।

  • फल – सभी फल आम तौर पर गाउट के लिए ठीक होते हैं। चेरी, यूरिक एसिड के स्तर को कम करके और सूजन को कम करके गाउट के हमलों को रोकने में मदद कर सकता है ।
  • सब्जियां – सभी सब्जियां ठीक हैं, जिनमें आलू, मटर, मशरूम, बैंगन और गहरे हरे पत्ते वाली सब्जियां शामिल हैं।
  • फलियां – दाल, सेम, सोयाबीन और टोफू सहित सभी फलियां ठीक हैंं।
  • डेयरी उत्पाद – सभी डेयरी सुरक्षित हैं, लेकिन कम वसा वाले डेयरी उत्पाद विशेष रूप से फायदेमंद प्रतीत होते है ।
  • साबुत अनाज – इनमें ओट्स, ब्राउन राइस और जौ शामिल हैं।
  • नट – सभी नट और बीज।
  • अंडे
  • पेय पदार्थ – कॉफी, चाय और ग्रीन टी।
  • जड़ी-बूटियाँ और मसाले – सभी जड़ी-बूटियाँ और मसाले।
  • तेल – कैनोला, नारियल, जैतून और सन के तेल ।

गाउट डाइट प्लान

आहार परिवर्तन के बारे में सलाह के लिए लोगों को अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। हालांकि, यहां एक स्वस्थ मेनू का एक उदाहरण है जो गाउट वाले व्यक्ति के लिए उपयुक्त हो सकता है।

सुबह का नाश्ता

  • दलिया / पोहा / उपमा / मौसमी फलों का सलाद

दोपहर का भोजन

  • रोटी + हरी सब्जियां + दाल + सलाद

शाम का नाश्ता

  • कॉफी / चाय / ग्रीन टी / उबले हुए अंडे / सब्जियों का सलाद

रात का भोजन

रोटी + हरी + सब्जी + दाल + सलाद + कम मात्रा में चिकन / अंडा

गाउट के मरीज अपनी जीवनशैली में यह कुछ अन्य परिवर्तन कर सकते हैं

अपने आहार के अलावा, कई अन्य बदलाव जीवनशैली में कर सकते हैं जो आपके गाउट के हमले के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

  • वजन कम करें
  • हाइड्रेटेड रहें
  • शराब का सेवन सीमित करें
  • विटामिन सी लें
  • व्यायाम करें

Spread the knowledge

2 thoughts on “Gout diet chart in hindi – गाउट बीमारी में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *