Peshab me jalan ke karan – पेशाब में जलन होने का कारण और इलाज

पेशाब में जलन होना या Dysuria ज्यादातर यह परेशानी महिलाओं में देखने को मिलती है पुरुषों के मुकाबले और ज्यादातर बूढ़े लोगों में देखने को मिलती है जवान लोगों के मुकाबले।

पेशाब में जलन होना अक्सर कुछ दिनों में ठीक हो जाती है लेकिन अगर यह परेशानी लंबे समय तक बरकरार रहती है तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए।

आइए जानते हैं इस पोस्ट में पेशाब में जलन की वजह क्या क्या हो सकती है और उसके इलाज के लिए आप क्या कर सकते हैं।

पेशाब में जलन के कारण

पेशाब में जलन बहुत सी वजह से हो सकती है उसमें से कुछ वजह है।

1. यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन (UTI)

पेशाब में जलन अक्सर यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की वजह से ही होता है, यह यूरिनरी ट्रैक्ट में बैक्टीरिया के इंफेक्शन की वजह से होता है जिसकी वजह से ट्रेक्टर में सूजन हो जाता है और जलन होता है।

यूरिनरी ट्रैक्ट वह रास्ता है जो पेशाब को किडनी से लेकर शरीर के बाहर ले जाता है, और अगर इस रास्ते में बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से सूजन हो जाता है तब यह पेशाब में जलन की वजह बनता है।

यह परेशानी महिलाओं में ज्यादा पाई जाती है पुरुषों के मुकाबले खासकर मासिक धर्म, प्रेगनेंसी के समय।

2. सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (STIs)

अगर आप सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफेक्शन से ग्रसित हैं तब भी आपको पेशाब में जलन की परेशानी हो सकती है साथ ही जलन के साथ दर्द भी हो सकता है। कुछ सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इंफेक्शन जो पेशाब में जलन के कारण हो सकते हैं वह है क्लैमाइडिया, सूजाक, और हरपीज।

जो व्यक्ति रोजाना यौन गतिविधियों में शामिल रहते हैं उन्हे अपना टेस्ट करवाना चाहिए।

3. प्रोस्टेटाइटिस

प्रोस्टेटाइटिस एक ऐसी अवस्था है जिसमें हमारा पोस्टेड ग्लैंड मैं सूजन हो जाता है जिसकी वजह से पेशाब में जलन, दर्द और परेशानी होती है। प्रोस्टेटाइटिस होने की वजह बैक्टीरियल इंफेक्शन और सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफेक्शन हो सकती है।

4. किडनी स्टोन या पथरी

किडनी स्टोन या पथरी तब होता है जब कैल्शियम या यूरिक एसिड किडनी में जमा होकर पत्थर का रूप ले लेते हैं और कड़क हो जाते हैं।

कभी-कभी ऐसा होता है कि कैल्शियम और यूरिक एसिड से बने हुए पत्थर पेशाब करने के रास्ते में आ जाते हैं जिसकी वजह से तेज दर्द और जलन का सामना करना पड़ता है पेशाब करते समय।

यह कुछ और लक्षण जो भी देखे जा सकते हैं वह है उल्टी होना, बुखार आना और साथ ही कम मात्रा में पेशाब का निकलना यह कुछ लक्षण हो सकते हैं किडनी स्टोंस के।

5. सिस्टाइटिस

पेशाब में जलन का कारण हो सकता सिस्टाइटिस। इंटरस्टिशियल सिस्टिटिस को दर्दनाक मूत्राशय सिंड्रोम के रूप में भी जाना जाता है।

सिस्टाइटिस के लक्षणों में ब्लैटर और पेल्विस एरिया में दर्द शामिल है, जब यह दर्द रेडिएशन थेरेपी के कारण है तब उस स्थिति को रेडिएशन सिस्टाइटिस कहा जाता है।

6. पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज

पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज के वजह से भी बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ा सकता है इसमें शामिल है पेशाब में जलन, पेशाब करते समय दर्द, पेट में दर्द, सेक्स के समय दर्द और भी अन्य समस्याएं। इस बीमारी की वजह बैक्टीरियल इनफेक्शन है जो कि वजाइना से होकर दूसरे शरीर के अंगों में फैल जाता है जिसकी वजह से फैलोपियन ट्यूब, ओवरी, सर्विस और यूट्रस में प्रभाव पड़ता है।

7. मूत्रमार्गशोथ – Urethritis

इस बीमारी में यूरेथ्रा में सूजन आ जाती है, ज्यादातर यह सूजन किसी बैक्टीरिया की वजह से होती है जिसकी वजह से पेशाब में जलन और दर्द का सामना करना पड़ता है।

इस समस्या की वजह से पेशाब करते समय दर्द होता है और साथ ही बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है।

8. एपीडीडीमिटिस – Epididymitis

पेशाब में दर्द की एक वजह एपीडीडीमिटिस भी हो सकती है। यह परेशानी पुरुषों में पाई जाती है, epididymis पुरुषों के अंडकोष या टेस्ट इसके पीछे पाए जाते हैं , जो कि स्पर्म को एकत्रित करके स्टोर करके रखते हैं और अंडकोष या टेस्टी से ऊपर लेकर जाते हैं।

9. ऑब्सट्रक्टिव यूरोपैथी

ऑब्सट्रक्टिव यूरोपैथी एक ऐसी समस्या है जिसके कारण यूरेटर, ब्लैडर और यूरेथरा में से पेशाब पास नहीं हो पाता और वापिस किडनी की तरह आ जाता है, इसकी वजह से स्थिति खराब हो जाती है और मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ जाती है।

10. ब्लैडर कैंसर

जब कैंसर सेल्स रेडमी पनपना चालू होते हैं तब ब्लैडर कैंसर होता है, जरूरी नहीं है कि आप को पेशाब करते समय दर्द हो शुरुआती स्टेज में लेकिन पेशाब में खून आना एक संकेत है ब्लैडर कैंसर का। दूसरे संकेत जो ब्लैडर कैंसर की तरफ इशारा करते हैं वह है, पेशाब करने बार-बार इच्छा होना, पेशाब का पास ना होना, वजन कम होना, पैर में दर्द होना, हड्डियों में दर्द होना।

पेशाब में जलन हो तो क्या करें

अगर आपको लंबे समय से पेशाब में जलन की परेशानी है तो आपको अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। डॉक्टर आपकी स्थिति देखकर दवाई देंगे ।

पेशाब में जलन को रोकने के लिए कुछ चीजों का खास ध्यान रखें जैसे कि

  • अच्छी मात्रा में पानी पिए और अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखें
  • शराब का सेवन कम करें
  • उन चीजों का सेवन बंद कर दें जो आपके ब्लैडर को इरिटेट करें जैसे कि ज्यादा एसीडीक खाना, एल्कोहल और कैफीन।
  • अपने बाथरूम को साफ सुथरा रखें
  • सेक्स करते वक्त हमेशा कंडोम का उपयोग करें।

आगे पढ़ें

Appendix ke lakshan in hindi – अपेंडिक्स के लक्षण

Uric acid test in hindi – यूरिक एसिड टेस्ट क्या, कैसे और क्यों होता है

Spread the knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *